Latest news

कर्मचारियों को मिला 4 प्रतिशत डीए का तोहफा

कर्मचारियों को मिला 4 प्रतिशत डीए का तोहफा

 

 

 

– अब पेंशनधारियों का डीए भी बढ़कर 38 प्रतिशत हो गया

 

 

 

शिक्षा फोकस, दिल्ली। केंद्र सरकार ने अपने कर्मचारियों को त्याेहारों के पहले बड़ा तोहफा दिया है। मोदी सरकार ने जुलाई 2022 से बढ़े हुए महंगाई भत्ते को मंजूरी दे दी है। केंद्रीय कैबिनेट ने महंगाई भत्ते में चार प्रतिशत की वृद्धि को अपनी मंजूरी दे दी है। अब केंद्रीय कमर्चारियों का डीए 32% से बढ़कर 38 फीसदी हो गया है। केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने बुधवार को कैबिनेट में लिए गए इस फैसले के बारे में जानकारी दी।

सरकार का यह फैसला जुलाई महीने की पहली तारीख से लागू हो जाएगा। इसका मतलब है कि केंद्रीय सरकार के कर्मियों को जुलाई महीने से ही बढ़ा हुआ वेतन मिलेगा। केंद्र सरकार के कर्मियों को जुलाई और अगस्त महीने के लिए डीए मद में एरियर का भुगतान किया जाएगा।

बता दें कि केंद्र सरकार ने इससे पहले मार्च महीने में केंद्रीय कर्मियों का डीए बढ़ाने का फैसला किया था। जिसे एक जनवरी 2022 से लागू किया गया था। गौतलब है कि सरकार हर वर्ष दो बार डीए में बढ़ोतरी करती है। इसमें इसे पहले जनवरी से बढ़ाया जाता है फिर दोबारा डीए में जुलाई महीने से इजाफा किया जाता है। हालांकि इस फैसले का एलान मार्च और सितंबर महीने में किया जाता है।

केंद्र सरकार के इस फैसले का केंद्रीय कर्मियों के अलावा पेंशनर्स को भी लाभ मिलेगा। केंद्र सरकार के पेंशनर्स को कर्मचारियों की भांति ही डीए में बढ़ोतरी का लाभ मिलता है। ऐसे में उनके लिए भी बढ़ती महंगाई के बीच डीए मद में चार प्रतिशत का इजाफा हो गया है। अब पेंशनधारियों का डीए भी बढ़कर 38 प्रतिशत हो गया है। अगर किसी कर्मचारी का पेंशन 20,000 रुपये है तो डीए में चार प्रतिशत की बढ़ोतरी के बाद अब महीने में आने वापली पेंशन की राशि आठ सौ रुपये बढ़ जाएगी।

मुफ्त राशन की स्कीम भी तीन महीने के लिए बढ़ी

इसके साथ ही सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई) के तहत मुफ्त राशन वितरण की अवधि को भी तीन महीने के लिए बढ़ा दिया है। बता दें कि देश में वर्तमान में चल रहे मुफ्त राशन स्कीम से देश के करीब 80 करोड़ गरीब लोग लाभान्वित हो रहे हैं। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत इतना ही राशन सब्सिडी पर पहले से मिलता रहा है, लेकिन पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत मिलने वाला राशन मुफ्त और इससे अलग है। बता दें कि कोरोना काल में लॉकडाउन से प्रभावित लोगों की मदद के लिए सरकार यह योजना लेकर आई थी। जिससे बड़े पैमाने पर गरीब तबके के लोगों को फायदा हुआ।

इसके अलावे सरकार देश में रेलवे के कायाकल्प के लिए भी एक बड़ा फैसला लिया है। प्रेसवार्ता के दौरान केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि प्रधानमंत्री का रेलवे के साथ भावनात्मक जुड़ाव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: