Latest news

शिक्षा मंत्री ने मापे-अध्यापक मिलनी को कामयाब बनाने के लिए शिक्षकों से मांगा सहयोग

शिक्षा मंत्री ने मापे-अध्यापक मिलनी को कामयाब बनाने के लिए शिक्षकों से मांगा सहयोग

 

 

– शिक्षा मंत्री बोले मैं खुद जा रहा हूं स्कूलों की जरूरतों को जानने के लिए

 

शिक्षा फोकस, जालंधर। राज्य के सरकारी स्कूलों में 3 सितंबर को होने वाली मापे-अध्यापक मिलनी (पीटीएम) को कामयाब करने तथा सरकार की तरफ से स्कूलों में दी जाने वाली सुविधाएं घर-घर पहुंचाने के लिए अध्यापकों से सहयोग मांगा। उन्होंने कहा कि इस पीटीएम को अध्यापक ही कामयाब कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि अध्यापकों तथा सरकारी स्कूलों की जरूरतों को जानने के लिए वह खुद सप्ताह में तीन दिन विभिन्न स्कूलों में विजिट कर रहे हैं। वह इस दौरान भी सीधे तौर पर अभिभावकों तथा विद्यार्थियों से बात कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि वह गत दिवस श्री फतेहगढ़ साहिब के माता गुजरी सीनियर सैकेंडरी स्कूल गए थे वहां एक छात्र नवीन ने अपने गीतों के साथ उनका दिल जीत लिया। इस गीत को उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया तो इसके बदले एक-दो कंपनी ने बच्चे की आवाज को रिकार्ड करने के लिए तैयार हैं।

इस बात की जिकर करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य के सरकारी स्कूलों में न तो अध्यापक में हुनर की कमी है औऱ न ही विद्यार्थियों में। इसलिए इस पीटीएम में भी शिक्षा मंत्री ने स्कूल प्रमुख को मनोरंजक कार्यक्रम करवाने के लिए कहा। अध्यापकों की बात करते हुए कहा कि उन्होंने कहा कि उनकी डिमांड को भी पूरा किया जा रहा है। अपने अध्यापकों की पीठ थपथपाते हुए शिक्षा मंत्री ने कहा कि सबसे ईमानदार कर्मचारी उनके विभाग में हैं। उन्हें सरकार की तरफ से अगर 50 पैसे किसी काम के लिए मिलते हैं तो वह उसी काम पर अपनी जेब तथा अन्य साधनों से पैसे एकत्रित कर एक रूपया खर्च करते हैं।

उन्होंने कहा कि बेशक कुछ सरकारी स्कूलों की हालत खराब होगी लेकिन वहां के अध्यापक स्टूडेंट्स को बेहतर सुविधाएं मुहैया करवा रहे हैं। शिक्षा मंत्री बैंस ने कहा कि पीटीएम के दौरान स्कूल अभिभावकों को विश्वास दिलाएं कि उनके बच्चों का भविष्य सुरक्षित है। अगर स्कूलों में कुछ खामियां हैं तो उसे आने वाले दिनों में दूर कर दिया जाएगा।

आने वाले दिनों में समाज के बेहतर पदों पर सरकारी स्कूलों के बच्चे ही सेवाएं देंगे। स्कूलों को इतनी सुविधाएं मिलेंगी कि प्राईवेट स्कूलों के मुकाबले सरकारी स्कूलों के बच्चों की गिनती अधिक होगी की वह डाकटर, वकील, तथा अन्य बढ़े पदों पर बैठने के लिए विद्यार्थियों को काबिल बना सके।

स्कूलों की हालत में सुधार की बात करते हुए शिक्षा मंत्री ने कहा कि स्कूलों को सफाई व स्कूलों में सिक्योरिटी पर ध्यान देते हुए सरकार उच्चित प्रबंध करने के लिए योजना बना रहा है।

अंत में शिक्षा मंत्री ने कहा कि 3 सितंबर को होने वाले पीटीएम का वह खुद भी एक हिस्सा बनेंगे। इस खूबसूरत पल का हिस्सा बनने के लिए वह अपनी सरकार के समूह विधायकों को अपील करते हुए स्कूलों में जाने के लिए कहेंगे। उन्होंने अध्यापकों से सरकारी स्कूलों तथा पीटीएम को कामयाब करने के लिए सहयोग मांगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: