Latest news

शिक्षा विभाग ने 20 निजी स्कूलों को भेजा नोटिस, जाने वजह

शिक्षा विभाग ने 20 निजी स्कूलों को भेजा नोटिस, जाने वजह

 

 

– नोटिस का जवाब देने के लिए विभाग द्वारा दिया गया 10 अगस्त 2022 तक आखिरी मौका

 

 

शिक्षा फोकस, पठानकोट। शिक्षा विभाग ने पठानकोट जिले के 20 निजी ऐसे स्कूलों को नोटिस जारी किया है जिन्होंने नि:शुल्क एवं अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 के तहत प्रवानगी नहीं ली है। विभाग ने इन स्कूलों को मान्यता के लिए आवेदन करने और पहले से भेजे गए नोटिसों का जवाब देने का अंतिम अवसर दिया है। इसके लिए स्कूलों को 10 अगस्त 2022 तक की अंतिम तिथि दी गई है।

इस संबंध में जानकारी देते हुए जिला शिक्षा अधिकारी पठानकोट जसवंत सिंह और उप जिला शिक्षा अधिकारी एलीमेंट्री डी.जी. सिंह ने कहा कि नि:शुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2009 के तहत सभी स्कूलों को मान्यता लेना आवश्यक है।

 

 

इन स्कूलों को मिला है अंतिम अवसर

पठानकोट के किम किड्स स्कूल पठानकोट, एनएनके पब्लिक स्कूल पठानकोट, होली हार्ट स्कूल धांगू रोड पठानकोट, स्वामी प्रकाशानंद स्कूल पठानकोट, डेनियल पब्लिक स्कूल पठानकोट, एंजल्स गार्डन स्कूल भदरोआ रोड पठानकोट, साईं मोरिया पब्लिक स्कूल नंगल भूर, केएलएम इंटर स्कूल मामून, क्ले और क्राउन वर्ल्ड स्कूल चक माधो सिंह, ओबेरॉय हाई स्कूल खानपुर, दिल्ली पब्लिक स्कूल झाखोलाडी पठानकोट, पाथफिंदर इंग्लिश स्कूल चक धारीवाल, राष्ट्रीय मॉडर्न स्कूल माधोपुर, मिउर इंटरनेशनल स्कूल थरियाल, अनंत गुरुकुल मेमोरियल स्कूल तरेटी, विवेकानंद मॉडर्न हाई स्कूल सुजानपुर, किड्स किंगडम और डिवाइन कैंडल्स स्कूल पठानकोट, एचआरपी पब्लिक स्कूल राम शरणम कॉलोनी पठानकोट, लोगोस एंजल्स एकेडमी गंदला लहरी और सैनिक पब्लिक स्कूल पठानकोट ने मान्यता के लिए आवेदन नहीं किया है।

इन स्कूलों को समय-समय पर नोटिस जारी कर मान्यता के लिए आवेदन करने को भी कहा गया था, लेकिन इन स्कूलों द्वारा भेजे गए नोटिस का कोई जवाब नहीं आया है। उन्होंने कहा कि 19 जुलाई 2022 को माननीय उपायुक्त पठानकोट के साथ हुई मासिक बैठक के दौरान प्राप्त आदेशों के अनुसार इन स्कूलों को 10 अगस्त तक नोटिस का जवाब देने और आवेदन करने का अंतिम मौका दिया गया है, जिसके बाद उनके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि जिन स्कूलों ने मान्यता के लिए आवेदन किया है वे जल्द से जल्द अपने दस्तावेज अपलोड करें ताकि उन्हें मान्यता प्रमाण पत्र जारी किया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: