Latest news

विद्यार्थियों को पढ़ाने के साथ शिक्षकों को करना होगा यह भी काम, एसीआर में जुड़ेंगे अंक

विद्यार्थियों को पढ़ाने के साथ शिक्षकों को करना होगा यह भी काम, एसीआर में जुड़ेंगे अंक

 

 

 

– सरकार चाहती है कि शिक्षा हासिल करने के साथ छात्र नौकरी के पीछे न भागें बल्कि नौकरियां देने के योग्य बनें

 

 

 

शिक्षा फोकस, जालंधर। अब शिक्षकों को छात्रों की पढ़ाई खे साथ-साथ विदार्थियों को कौशल युक्त कोर्स करने को लेकर भी उन्हें (छात्रों) जागरूक करना होगा। शिक्षा विभाग की तरफ से राज्य भर के सरकारी स्कूलों में दसवीं और 12वीं कक्षा में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को सरकारी तकनीकी शिक्षा कालेजों में चलाए जा रहे कोर्सों में दाखिले लेने संबंधी जागरूक किया जाएगा। सरकारी स्कूलों के प्रिंसिपल कालेजों के साथ संपर्क कर लेक्चरर आयोजित करेंगे।

इसमें विशेषज्ञों की तरफ से विभिन्न कोर्सों के साथ-साथ उनके फायदों के बारे में बताया जाएगा। विद्यार्थियों को प्रत्येक कालेजों की सीटों संबंधी भी जागरूक किया जाएगा ताकि कोर्स करनने के बाद विद्यार्थी नौकरी करने वाले ही नहीं बल्कि नौकरियां देने के योग्य भी बनें।

बता दें कि यह सरकार की तरफ से गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा दिलाने के उद्देश्य से प्रोजेक्ट शुरू किया जा रहा है, जिससे विद्यार्थी दसवीं करने के बाद ही अपनी रूचि के अनुसार कोर्स चुन सके। नान मेडिकल और मेडिकल में 12वीं पास करने वाले विद्यार्थी तकनीकी कोर्स में सीधे ही दूसरे वर्ष में प्रवेश ले सकेंगे। इसके साथ-साथ ऐसी कई सुविधाएं भी चलाई जा रही हैं।

जिसके तहत विद्यार्थियों को किस प्रकार का कोई शुल्क नहीं देना होगा और वे निश्शुल्क पढ़ाई कर सकेंगे। कईयों में विशेष छूट और स्कालरशिप देने के भी प्रविधान हैं। इसके लिए कालेजों में विद्यार्थियों की विजिट भी करवाई जाएगी। जिससे उनके मन में किस प्रकार का संशय न रहे।

 

 

 

प्रोग्राम को सफल बनाने वालों के एसीआर में जुड़ेंगे अंक

 

विद्यार्थियों में कौशल प्रति उत्साह पैदा करने के लिए शुरू किए गए इस प्रोजेक्ट को सफल बनाने वाले शिक्षकों और प्रिंसिपलों के इसके अवार्ड के तौर पर अतिरिक्त अंक मिलेंगे, जो उनके सालाना गुप्त रिपोर्ट (एसीआर) में जुड़ेंगे।

टेक्निकल एजुकेशन एंड आईटी पंजाब के सचिव आईएएस राहुल भंडारी ने कहा कि पंजाब स्टेट बोर्ड आफ टेक्निकल एंड इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग पंजाब की तरफ से 2022-23 शिक्षा सत्र के लिए तीन साल के कोर्स में दाखिले की प्रक्रिया शुरू कर दी हुई है।

इसे लेकर तुरंत जिला शिक्षा अधिकारियों और स्कूल प्रिंसिपल, शिक्षकों विद्यार्थियों को कोर्सों संबंधी जानकारी दें। ताकि इच्छुक विद्यार्थी दाखिले लेकर अपने कौशल को निखारने की तरफ आगे आएं। उन्होंने कहा कि कोर्स करने वाले विद्यार्थियों को पीएम स्कालरशिप स्कीम, सीएम स्कालरशिप का लाभ भी मिलेगा।

 

 

 

कालेजों में सीटों की स्थिति

 

जालंधर सरकारी इंस्टीट्यूट आफ लैंदर एंड फुटवीयर टेक्नोलाजी गुरु रविदास चौक में 40 सीटें हैं। इनमें लेदर टेक्नोलाजी की 18, लेदर टेक्नोलाजी फुटवीयर की 22 सीटें शामिल हैं। इसी तरह से सरकारी बहुतकनीकी कालेज फार गर्ल्स में 300 सीटें हैं।

जिसमें आर्चिटेकुरल, केमिकल इंजीनियरिंग, इन्फार्मेशन टेक्नोलाजी, लाइब्रेरी एंड इन्फार्मेशन साइंस, मार्डन आफिर प्रेक्टिस, फार्मेसी में 30-30, कम्प्यूटर साइंस, इलेक्ट्रानिक्स एंड कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग की 60-60 शामिल हैं।

इसी तरह से बठिंडा में 390, अमृतसर में 670, कोटकपूरा में 90, फिरोजपुर में 150, पटियाला में 450, दीनानगर में 120, मोगा में 280, मोहाली में 310, बटाला में 270, एसबीएस नगर में 120, फतुही खेड़ा में 60, लुधियाना में 402, भिखिपिंद मे 174, होशियारपुर में 390, तलवाड़ा में 270 सीटें हैं।

 

 

यह कोर्स चलाए जा रहे हैं

 

सिविल इंजीनियर, इलेक्ट्रिकल इंजीनियर, कम्प्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग, मेकेनिकल इंजीनियर, प्रोडक्शन एंड इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग, प्रोडक्शन, एसीई, आर्चिटेक्चुरल, इन्फार्मेशन, फार्मेसी आदि कोर्स चलाए जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: